Hindi poetry

WOMEN EMPOWERMENT

Gaadi ke do pahye- Hindi poetry on women Empowerment

Gaadi ke do pahye- Hindi poetry on women Empowerment

महिला सशक्तिकरण पर हिंदी कविता गाडी के दो पहिए मैं स्त्री हूँ , और सबकासम्मान रखना जानती हूँकहना तो नहीं चाहतीपर फिर भी कहना चाहती हूँकिसी को ठेस लगे इस कविता सेतो पहले ही माफ़ी चाहती हूँसवाल पूछा है और आपसेजवाब चाहती हूँ क्या  कोई  पुरुष,...

read more

Pin It on Pinterest