प्रेरक हिंदी कविता संग्रह

अर्चना की रचना

Latest

Recent Posts

arman classic Hindi poetry on life

हिंदी कविता    अरमान  अरमान जो सो गए थे , वो फिर से  जाग उठे हैं  जैसे अमावस की रात तो है , पर  तारे जगमगा उठे हैं...  बहुत चाहा कि इनसे नज़रें  फेर लूँ पर उनका क्या करूँ, जो खुद- ब - खुद मेरे दामन में आ सजे हैं .... नामुमकिन तो नहीं  पर अपनी किस्मत पे  मुझे शुभा सा...

read more
HASIL Hindi motivational poetry on life

जीवन पर आधारित प्रेरक कविता    हासिल  कभी - कभी बिन माँगें बहुत कुछ मिल जाता है  और कभी माँगा हुआ दरवाज़े पे दस्तक दे लौट जाता है  शायद इसी को ज़िन्दगी कहते हैं  सब्र का दामन थाम कर यहाँ हर कोई यूं ही जिये जाता है ...   मिले न मिले ये मुकद्दर उसका   फिर भी कोशिश करना...

read more
Archana ki Rachna Inspirational Hindi poetry Collection

प्रेरक हिंदी कविताओं का संग्रह  अर्चना की रचना "सिर्फ लफ्ज़ नहीं एहसास "  "अर्चना की रचना " प्रेरक हिंदी कविताओं  का छोटा सा संस्करण है , जिसमें जीवन के विभिन्न रंगों जैसे- सुख -दुःख ,हार- जीत, प्रेम- विश्वास इत्यादि से जुड़े अनुभवों और भावनाओं की सकारात्मक अभिव्यक्ति...

read more
Archana ki rachna Hindi poetry collection

अर्चना की रचना  हिंदी कविता संग्रह    नमस्कार,आप सब लोगों को यह बताते हुए हार्दिक प्रसन्नता हो रही है कि मैं अपनी कविताओं को शीघ्र Online माध्यम से प्रकाशित करने जा रही हूँ l कविता संग्रह का नाम "अर्चना की रचना" है , जो जीवन के विभिन्न रंगों पर आधारित है l ये मेरा...

read more
ajoobi bachpan Hindi poetry on childhood life

बचपन की यादों आधारित हिंदी कविता    अजूबी  बचपन  आज दिल फिर बच्चा होना चाहता है  बचपन की अजूबी कहानियों में खोना चाहता है    जीनी जो अलादिन की हर ख्वाहिश  मिनटों में पूरी कर देता था, उसे फिर क्या हुक्म मेरे आका   कहते देखना चाहता है  आज दिल फिर बच्चा होना चाहता है  ...

read more
mrit tehniyaan Hindi Inspirational poetry on life

जीवन पर प्रेरक हिंदी कविता  मृत  टहनियाँ वो टहनियाँ जो हरे भरे पेड़ों से लगे हो कर भी सूखी रह जाती है  जिनपे न बौर आती है  न पात आती है  आज उन  मृत टहनियों को  उस पेड़  से अलग कर दिया मैंने...   हरे पेड़ से लिपटे हो कर भी  वो सूखे जा रही थी  और इसी कुंठा में  उस पेड़ को...

read more

About

My Story

मेरा नाम है अर्चना
समेटे हुए हूँ , मूक अल्फ़ाज़ों
में बहुत सी संवेदना
जो दिया ज़िन्दगी ने
जो सीखा ज़िन्दगी से
उसे चाहती हूँ आप
सब में बिखेरना
अगर हो निराश और हताश
हालातों में घिरे हुए
तो ज़रूर पढ़ना
“अर्चना की रचना”
मिल जाएगी इसमें तुम्हें
बहुत सी प्रेरक रचना
जो है ज़िन्दगी की ऑक्सीजन,
न कि किसी कवि की
कोरी कल्पना
अगर पसंद आये मेरा,
इन एहसासों को
कागज पे उतारना
तो like and Subscribe
करना, अर्चना की रचना
“सिर्फ लफ्ज़ नहीं एहसास”

Contact Me

Get In Touch

Pin It on Pinterest

Share This