प्रेरक हिंदी कविता संग्रह

अर्चना की रचना

Latest

Recent Posts

aaj ki nari Hindi poetry on Women empowerment

महिला सशक्तिकरण पर हिंदी कविता  आज की नारी  मैं आज की नारी हूँ  न अबला न बेचारी हूँ  कोई विशिष्ठ स्थान न मिले चलता है  फिर भी आत्म सम्मान बना रहा ये   कामना दिल रखता है  न ही खेला कभी  women कार्ड  मुश्किलें आयी हो चाहे हज़ार  फिर भी कोई मेरी आवाज़ में आवाज़   मिलाये  तो...

read more
Shurveer Hindi patriotic love poetry

देशभक्ति प्रेम पर हिंदी कविता  शूरवीर  आज फिर गूँज उठा कश्मीर  सुन कर ये खबर दिल सहम गया  और घबरा कर हाथ  रिमोट पर गया  खबर ऐसी थी की दिल गया चीर  हैडलाइन थी  आज  फिर गूँज उठा कश्मीर  फ़ोन उठा कर देखा तो  उनको भेजा आखिरी मेसेज   अब तक unread था  न ही पहले के मेसेज  पर ...

read more
tumko likha karoongi Hindi poetry on love

प्रेम पर आधारित हिंदी कविता  तुमको लिखा करूंगी  अब से मैं प्यार लिखूंगी  तो तुमको लिखा करूंगी  वो शामें मेरी ,जो तुम पर  उधार हैं , उन पर  ख्वाब  लिखूंगी  तो तुमको लिखा करूंगी  वो गलियाँ जिन पर तेरे वापस आने के निशान नहीं  उन पर इंतजार लिखूंगी  तो तुमको लिखा करूंगी ...

read more
malal Hindi poetry on love and betrayal

प्रेम और विश्वासघात पर हिंदी कविता  मलाल  मुझे ताउम्र ये मलाल रहेगा  तुम क्यों आये थे  मेरी ज़िन्दगी में  ये सवाल रहेगा    जो सबक सिखा गए तुम  वो बहुत गहरा है  चलो प्यार गहरा न सही  पर उसका हासिल  सुनहरा है  गैरों की नज़र से नहीं खुद अपनी नज़र से परखा था तुम्हें  मुझे...

read more
mere dard inspirational Hindi poetry on life

प्रेरक हिंदी कविता  मेरे दर्द  मेरे दर्द सिर्फ मेरे हैं  इन्हें अपनी आँखों का पता  क्यों दूँ तरसे और बरसे इन्हें अपने दर्दों  से  वो लगाव क्यों दूँ   मेरा अंधापन मेरी आँखों को  चुभता है  पर अपने लिए फैसलों पर  इसे रोने क्यों दूँ मेरे दर्द सिर्फ मेरे हैं  इन्हें अपनी...

read more
Corona me tyohar Hindi poetry on holy festival Ramadan

रमज़ान के मौके पर हिंदी कविता  एक ऐसी ईद ( कोरोना में त्यौहार )   एक ऐसी ईद भी आई  एक ऐसी नवरात गई  जब न मंदिरों में घंटे बजे  न मस्जिदों में चहल कदमी हुई   बाँध रखा था हमने जिनको  अपने सोच की चार दीवारों में  अब समझा तो जाना  हर तरफ उसके ही नूर से  दुनिया सजी  एक ऐसी...

read more

About

My Story

मेरा नाम है अर्चना
समेटे हुए हूँ , मूक अल्फ़ाज़ों
में बहुत सी संवेदना
जो दिया ज़िन्दगी ने
जो सीखा ज़िन्दगी से
उसे चाहती हूँ आप
सब में बिखेरना
अगर हो निराश और हताश
हालातों में घिरे हुए
तो ज़रूर पढ़ना
“अर्चना की रचना”
मिल जाएगी इसमें तुम्हें
बहुत सी प्रेरक रचना
जो है ज़िन्दगी की ऑक्सीजन,
न कि किसी कवि की
कोरी कल्पना
अगर पसंद आये मेरा,
इन एहसासों को
कागज पे उतारना
तो like and Subscribe
करना, अर्चना की रचना
“सिर्फ लफ्ज़ नहीं एहसास”

Contact Me

Get In Touch

Pin It on Pinterest

Share This