प्रेरक हिंदी कविता संग्रह

अर्चना की रचना

Latest

Recent Posts

ek khalal Hindi poetry on sentiments

एक खलल हिंदी कविता सारांश - जीवन किसी का भी मुकम्मल नहीं है चाहे वो राजा हो या रंकl हर किसी की ज़िन्दगी में कुछ न कुछ कमी /खलिश है और वो खलिश हमेशा आपके साथ चलती है, आपकी तन्हाईओं पे भी l उसी पर आधारित एक छोटी सी कविता " एक खलल " कौन कहता है कि मैं अकेला रहता हूँ एक...

read more
Ardas Hindi spritual poetry

ardas-hindi-spritual-poetry "अरदास" हिंदी अध्यात्मिक कविता जो तुझसे छुपा सकूं , ऐसा कोई राज़ नहीं , सब कुछ तुझे पता है , मेरी कोई अरदास नहीं . तूने मुझे वो सब दिया , जिसका मैं हकदार था , जो तूने दे के ले लिया, उसका कोई मलाल नहीं . मैं बैठा हूँ तेरी चौखट पर , बेहद सुकून...

read more
jaise kuch hua he nahi Hindi Motivational poetry on life

जीवन पर आधारित कविता शीर्षक -: जैसे कुछ हुआ ही नहीं  आज कल मैं यूं जी रहा  हूँ जैसे कुछ हुआ ही नहीं, बीते लम्हें दफना दिए हैं जैसे कुछ गुज़रा ही नहीं   हालातों की कैंची ऐसी चली के ख्वाब सारे उधड गए, पोटली बना ली थी कतरनों की  जोड़ लग के भी कुछ पूरा हुआ ही नहीं   मुख़्तसर...

read more
Umeed ka daman Hindi motivational poetry on Hope

प्रेरणादायक हिंदी कविता  शीर्षक -: उम्मीद का दामन   मन में कोलाहल है शोर है जाने कैसा ये दौर है हर तरफ लाचारी सी छायी है फिर भी, उम्मीद का दामन थामे रहना अभी लड़नी एक लड़ाई है ...   बिना कोई हथियार लिए एक युद्ध निरंतर जारी है सब अपने ही घर पे बैठें बस इसमें ही समझदारी...

read more
Bairi Chaand Hindi poetry on love and romance

प्रेम और विरह पर आधारित हिंदी कविता   बैरी चाँद      मोरी अटरिया पे ठहरा ये "बैरी चाँद" देखो कैसे मोहे चिढाये दूर बैठा भी देख सके है मोरे पिया को मोहे उनकी एक झलक भी न दिखाए ..   कभी जो देखूं पूरा चाँद, याद आती है वो रात जब संग देख रहा था ये बैरी, हम दोनों को टकटकी...

read more
Tumahra intazar Hindi poetry on hope

आशा पर आधारित हिंदी कविता  तुम्हारा इंतजार    लहरें होकर अपने सागर से आज़ाद तेज़ दौड़ती हुई समुद्र तट को आती हैं , नहीं देखती जब सागर को पीछे आता तो घबरा कर सागर को लौट जाती हैं ,   कुछ ऐसा था मेरा प्यार खुद से ज्यादा था उसपे विश्वास, के मुझसे परे, जहाँ कही भी वो जायेगा...

read more

About

My Story

मेरा नाम है अर्चना
समेटे हुए हूँ , मूक अल्फ़ाज़ों
में बहुत सी संवेदना
जो दिया ज़िन्दगी ने
जो सीखा ज़िन्दगी से
उसे चाहती हूँ आप
सब में बिखेरना
अगर हो निराश और हताश
हालातों में घिरे हुए
तो ज़रूर पढ़ना
“अर्चना की रचना”
मिल जाएगी इसमें तुम्हें
बहुत सी प्रेरक रचना
जो है ज़िन्दगी की ऑक्सीजन,
न कि किसी कवि की
कोरी कल्पना
अगर पसंद आये मेरा,
इन एहसासों को
कागज पे उतारना
तो like and Subscribe
करना, अर्चना की रचना
“सिर्फ लफ्ज़ नहीं एहसास”

Contact Me

Get In Touch

Pin It on Pinterest

Share This