प्रेरक हिंदी कविता संग्रह

अर्चना की रचना

Latest

Recent Posts

Corona Virus A Inspirational Hindi Poetry on life religion pandemic

धर्म-जाति से परे हिंदी कविता एक भयावह महामारी पर    कोरोना वायरस  लिखना नहीं चाहती थी  पर लिखना पड़ा  कहना नहीं चाहती थी  पर कहना पढ़ा  आज कल जो माहौल है  उसे देख ये ख़ामोशी तोडना पड़ा  जब हम जैसे पढ़े लिखे ही  चुप हो जायेंगे  तो इस देश को कैसे  बचा  पाएंगे  जो फंसे हुए...

read more
Bharosa Inspirational Hindi poetry on life

आज की सच्ची घटना पर आधारित हिंदी कविता  सारांश -:  दोस्तों ये घटना आज सुबह की है , जो कि  मेरी दैनिक दिनचर्या है कि मैं रोज़ सुबह उठते ही परिंदों को दाना डालती हूँ तब अपने  दिन की शुरुआत करती हूँ , पर आज इस घटना ने मुझे एक कविता की सोच दी जो मैं आप  लोगों से साँझा कर...

read more
Haan A Moivational Hindi poetry on Life

जीवन पर आधारित विचारणीय कविता    आज  की कविता शायद कुछ लोगो को भावुक करे या कुछ लोगों को सोचने पर मजबूर करे मेरा काम है आप लोगों तक  एक सोच पहुँचाना  किसी ने अपनाई तो शुक्रिया  वख्त ज़ाया किया तो माफ़ करे...... शीर्षक - : हाँ तुम उस दिन जो हाँ कर देते  तो किसी को नया...

read more
Thodi si Nami A Hindi poetry on relationships

बनते बिगड़ते रिश्तों पर आधारित कविता    थोड़ी सी नमी  तूफानों को आने दो  मज़बूत दरख्तों की  औकात पता चल जाती है  पेड़ जितना बड़ा और पुराना हो  उसके गिरने  की आवाज़  दूर तलक़ आती है    सींचा हो जिन्हें प्यार से  उन्हें यूं बेजान देख कर एक आह सी निकलती है पर उसे जिंदा रखने की...

read more
Es baar A Hindi love poetry on sentiments

प्रेम में भावनाओं पर हिंदी कविता  इस बार  सोचती हूँ, क्या इस बार तुम्हारे आने पर पहले सा आलिंगन कर पाऊँगी या  तुम्हें इतने दिनों बाद देख ख़ुशी से झूम जाउंगी   चेहरे पे मुस्कान तो होगी पर क्या वो सामान्य होगी तुम्हें चाय का प्याला दे क्या एक...

read more
main kuch bhulta nahi A Hindi poetry on life

जीवन पर आधारित हिंदी कविता  मैं कुछ भूलता नहीं  मैं कुछ भूलता नहीं ,मुझे सब याद रहता है अजी, अपनों से मिला गम, कहाँ भरता है   सुना है, वख्त हर ज़ख़्म का इलाज है पर कभी-२ कम्बख्त वख्त भी कहाँ गुज़रता है   मैं अब बेख़ौफ़ गैरों पे भरोसा कर लेता हूँ जिसने...

read more

About

My Story

मेरा नाम है अर्चना
समेटे हुए हूँ , मूक अल्फ़ाज़ों
में बहुत सी संवेदना
जो दिया ज़िन्दगी ने
जो सीखा ज़िन्दगी से
उसे चाहती हूँ आप
सब में बिखेरना
अगर हो निराश और हताश
हालातों में घिरे हुए
तो ज़रूर पढ़ना
“अर्चना की रचना”
मिल जाएगी इसमें तुम्हें
बहुत सी प्रेरक रचना
जो है ज़िन्दगी की ऑक्सीजन,
न कि किसी कवि की
कोरी कल्पना
अगर पसंद आये मेरा,
इन एहसासों को
कागज पे उतारना
तो like and Subscribe
करना, अर्चना की रचना
“सिर्फ लफ्ज़ नहीं एहसास”

Contact Me

Get In Touch