Hindi poetry

INSPIRATIONAL

jaise kuch hua he nahi Hindi Motivational poetry on life

जीवन पर आधारित कविता शीर्षक -: जैसे कुछ हुआ ही नहीं  आज कल मैं यूं जी रहा  हूँ जैसे कुछ हुआ ही नहीं, बीते लम्हें दफना दिए हैं जैसे कुछ गुज़रा ही नहीं   हालातों की कैंची ऐसी चली के ख्वाब सारे उधड गए, पोटली बना ली थी कतरनों की  जोड़ लग के भी कुछ पूरा हुआ ही नहीं   मुख़्तसर...

read more

Umeed ka daman Hindi motivational poetry on Hope

प्रेरणादायक हिंदी कविता  शीर्षक -: उम्मीद का दामन   मन में कोलाहल है शोर है जाने कैसा ये दौर है हर तरफ लाचारी सी छायी है फिर भी, उम्मीद का दामन थामे रहना अभी लड़नी एक लड़ाई है ...   बिना कोई हथियार लिए एक युद्ध निरंतर जारी है सब अपने ही घर पे बैठें बस इसमें ही समझदारी...

read more

arman classic Hindi poetry on life

हिंदी कविता    अरमान  अरमान जो सो गए थे , वो फिर से  जाग उठे हैं  जैसे अमावस की रात तो है , पर  तारे जगमगा उठे हैं...  बहुत चाहा कि इनसे नज़रें  फेर लूँ पर उनका क्या करूँ, जो खुद- ब - खुद मेरे दामन में आ सजे हैं .... नामुमकिन तो नहीं  पर अपनी किस्मत पे  मुझे शुभा सा...

read more

HASIL Hindi motivational poetry on life

जीवन पर आधारित प्रेरक कविता    हासिल  कभी - कभी बिन माँगें बहुत कुछ मिल जाता है  और कभी माँगा हुआ दरवाज़े पे दस्तक दे लौट जाता है  शायद इसी को ज़िन्दगी कहते हैं  सब्र का दामन थाम कर यहाँ हर कोई यूं ही जिये जाता है ...   मिले न मिले ये मुकद्दर उसका   फिर भी कोशिश करना...

read more

Archana ki rachna Hindi poetry collection

अर्चना की रचना  हिंदी कविता संग्रह    नमस्कार,आप सब लोगों को यह बताते हुए हार्दिक प्रसन्नता हो रही है कि मैं अपनी कविताओं को शीघ्र Online माध्यम से प्रकाशित करने जा रही हूँ l कविता संग्रह का नाम "अर्चना की रचना" है , जो जीवन के विभिन्न रंगों पर आधारित है l ये मेरा...

read more

mrit tehniyaan Hindi Inspirational poetry on life

जीवन पर प्रेरक हिंदी कविता  मृत  टहनियाँ वो टहनियाँ जो हरे भरे पेड़ों से लगे हो कर भी सूखी रह जाती है  जिनपे न बौर आती है  न पात आती है  आज उन  मृत टहनियों को  उस पेड़  से अलग कर दिया मैंने...   हरे पेड़ से लिपटे हो कर भी  वो सूखे जा रही थी  और इसी कुंठा में  उस पेड़ को...

read more

aaj ki nari Hindi poetry on Women empowerment

महिला सशक्तिकरण पर हिंदी कविता  आज की नारी  मैं आज की नारी हूँ  न अबला न बेचारी हूँ  कोई विशिष्ठ स्थान न मिले चलता है  फिर भी आत्म सम्मान बना रहा ये   कामना दिल रखता है  न ही खेला कभी  women कार्ड  मुश्किलें आयी हो चाहे हज़ार  फिर भी कोई मेरी आवाज़ में आवाज़   मिलाये  तो...

read more

mere dard inspirational Hindi poetry on life

प्रेरक हिंदी कविता  मेरे दर्द  मेरे दर्द सिर्फ मेरे हैं  इन्हें अपनी आँखों का पता  क्यों दूँ तरसे और बरसे इन्हें अपने दर्दों  से  वो लगाव क्यों दूँ   मेरा अंधापन मेरी आँखों को  चुभता है  पर अपने लिए फैसलों पर  इसे रोने क्यों दूँ मेरे दर्द सिर्फ मेरे हैं  इन्हें अपनी...

read more

Corona me tyohar Hindi poetry on holy festival Ramadan

रमज़ान के मौके पर हिंदी कविता  एक ऐसी ईद ( कोरोना में त्यौहार )   एक ऐसी ईद भी आई  एक ऐसी नवरात गई  जब न मंदिरों में घंटे बजे  न मस्जिदों में चहल कदमी हुई   बाँध रखा था हमने जिनको  अपने सोच की चार दीवारों में  अब समझा तो जाना  हर तरफ उसके ही नूर से  दुनिया सजी  एक ऐसी...

read more

Pin It on Pinterest